थायराइड के कारण, लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार

symptoms of thyroid hindi

Thyroid in Hindi- दोस्तो आज हम बात करेंगे साइलेंट किलर की. अगर आप सोच रहे है की साइलेंट किलर क्या होता है तो आपको पता होना चाहिए की थायराइड को ही साइलेंट किलर के नाम से जाना जाता है। यह बहुत धीमी गति से  बढ़ता है जिससे किसी को इसके बारे में पता भी नही चल पाता है। थायराइड होने का कारण अनियमित जीवन शैली और अधिक मात्रा में दवाओं के सेवन करने से होता है। यदि आप सोच रहे है की थायराइड क्या होता है? तो आज हम इसके बारे में पुरी जानकारी बताने वाले है. जैसे थायराइड क्या होता है, थायराइड के लक्षण, कारण और उपचार )(symptoms of thyroid in hindi)आदि।

थायराइड क्या होता है? What is Thyroid in Hindi

अधिकतर लोग सोचते है कि थायराइड एक रोग होता है, अगर आपको भी लगता है की थाइराइड एक रोग  होता है तो आप बिल्कुल गलत सोच रहे  है। थाइराइड एक ग्रंथि का नाम है जो हमारे गले के बिल्कुल सामने होता है। आपने देखा या सुना होगा जब गले के सामने की यह ग्रंथि बढ़ जाती है तो लोग इसे घेंघा भी कहते है। यह थायरॉक्सिन नामक हार्मोन का निर्माण करता है. जो हमारे शरीर के मेटाबॉलिज्म को नियंत्रण करने का काम करता है। जिससे हमारे द्वारा खाये गये किसी भी पदार्थ को ऊर्जा में रुपांतरित कर देता है।  

थायराइड के प्रकार: Types of Thyroid in Hindi

थायराइड मुख्यत दो प्रकार के होते है. हाइपरथायरायडिज्म और हाइपोथायरायडिज्म यह दोनो ही अलग प्रकार से प्रभावित करते है। अगर हाइपरथायरायडिज्म की बात करे तो इसमे बहुत अधिक मात्रा में हार्मोन पैदा करती है। और हाइपोथायरायडिज्म में जरुरत से कही कम मात्रा में हर्मोन पैदा करती है। 

थायराइड के लक्षण: Symptoms of Thyroid in Hindi

थायराइड के शुरुआती लक्षण में जल्दी थकान आना जैसी समस्या देखने को मिलती है।

दिन भर शरीर सुस्त रहता है. किसी भी काम को करने का मन नही करता है।

थायराइड होने पर आपको कब्ज जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

सही रुप से भोजन गले से उतरने में भी परेशानी होती है।

अनुवंशिकता भी हो सकती है, यदि परिवार में किसी को यह होता है तो आपको भी होने की संभावना होती है।

त्वचा में रुखापन और त्वचा सुखने लगती है।

थायराइड रोग से ग्रसित व्यक्ति का रोग प्रतिरोधक क्षमता का कम हो जाता है ।

जुकाम होना भी थायराइड के लक्षण है, ऐसे जुकाम जल्दी ठिक नही होते है।

इसमे आपके बाल और भौहो दोनों झड़ने लगते है।

कभी कभी तो बाल इतने झड़ने लगते है की वह पूर्ण रुप से गंजे हो जाते है।

यादाश्त का कमजोर होना।

हाथ पैर का हर समय ठंडा रहना थायराइड का लक्षण होता है।

तनाव  में रहना।

जोड़ो में दर्द होना।

यदि आपको ऐसे लक्षण देखने को मिलते है तो इसे आप अनदेखा ना करे। यह थायराइड के या किसी अन्य रोग के लक्षण हो सकते है। जो आगे चल के काफी खतरनाक साबित हो सकते है। ऐसे किसी भी प्रकार के लक्षण मिलने पर तुरंत डॉक्टर को जरुर दिखाये।

थायराइड के कारण: Thyroid Causes in Hindi

थायराइड हर्मोन बनाने की क्षमता का कम हो जाना ।

दवाओं के ज्यादा इस्तेमाल से साइड इफेक्ट होते है जो थायराइड का कारण बन सकती है।

भोजन में आयोडिन की मात्रा में कमी होना।

अधिक तनाव होने के कारण थायराइड ग्रंथि का प्रभावित होना।

ग्रेव्स रोग होने के कारण।

गर्भावस्था होने के कारण।

पिट्यूटरी ग्रंथि खराब होने के कारण।

पीने के पानी में क्लोरिन होने की वजह से थायराइड ग्रंथि प्रभावित होती है।

परिवार में किसी व्यक्ति कोई पहले से ही ऐसी समस्या होना ।

बच्चों में थायराइड:Thyroid in Children in Hindi

अक्सर देखा जाता है जिन बच्चो को थायराइड की समस्या होती है उन्हे होने का कारण उसके माता पिता ही होते है। क्योकि थायराइड अनुवंशिकता के कारण भी होती है। यदि किसी महिला को गर्भावस्था के समय थायराइड की समस्या हो तो उसका असर बच्चों पर भी पडता है।

यदि ऐसी महिला के खान पान में सही पोषण न हो तो वह बच्चो पर असर पडता है। जैसे भोजन में आयोडिन की कमी होने से बच्चों को थायराइड की समस्या हो सकती है। अगर किसी भी बच्चे को थायराइड की समस्या हो जाती है तो उनका शारीरिक और मानसिक विकास होना रुक जाता है।

अगर आपको ऐसी किसी भी प्रकार की समस्या अपने बच्चों में दिखाई देती है तो आपको तुरंत डॉक्टर की सलाह जरुर लेनी चाहिए ।

महिलाओं में थायराइड:Thyroid in Women

अक्सर देखा जाता है की महिलाओं में थायराइड की समस्या ज्यादा पायी जाती है। और थायराइड से सुस्तीपन और थकान महसूस होती है जिससे उन्हे अधिक नींद भी आती है। महिलाओ में थायराइड होने से क्या प्रभाव पड़ते है. चलिए जानते है महिलाओ में थायराइड के प्रभाव के बारे में ।

महिलाओं में थायराइड होने पर उनके पीरियड्स पर प्रभाव पड़ता है। या फिर पीरियड्स आना बंद हो जाते है या कभी ज्यादा आने लगते है।

ऐसी समस्या आम तौर पर होती रहती है महिलाओ को पर इसे आप अनदेखा ना करे ।

गर्भधारण करने में परेशानी का सामना करना पड़ता है।

मिसकैरेज होने की संभावना बढ़ जाती है ।

बच्चे को थायराइड होने की संभावना बनी रहती है।

इसे समय मे नियमित रुप से अपना चेकअप करवाते रहना चाहिए ।

थायराइड के इलाज:Thyroid Treatment in Hindi

थायराइड के इलाज उनके प्रकार के हिसाब से होता है. लेकिन हम आपको कुछ जरुरी इलाज के बारे में ही बतायेंगे। तो चलिए जानते है थायराइड के इलाज के बारे में ।

सर्जरी: जब थायराइड का आकार ज्यादा बढ़ जाता है तब सर्जरी कराने की जरुरत पड़ती है। जैसे अगर आपको खाने में परेशानी और सांस लेने में परेशानी होती है। ऐसे स्थिति में डॉक्टर सर्जरी के द्वारा थायराइड ग्रंथि को निकाल देते है। इनमे उसी उतक को निकाला जाता है जो अधिक मात्रा में थायराइड के हर्मोन पैदा करते है।

थायराइड की सर्जरी उन लोगो के लिए ज्यादा उपयोगी होती है जो दवा का सेवन नही कर सकते है। अधिकतर देखा ज्याता है की बच्चे और प्रेगनेंट महिला की ही सर्जरी अधिक मात्रा मे किया जाता  है।

आयोडीन ट्रीटमेंट: इस सर्जरी में आयोडिन का इस्तेमाल किया जाता है। जो स्कैन द्वारा आयोडिन को निकाल दिया जाता है। आयोडिन ट्रीटमेंट से शरीर पर किसी भी प्रकार का प्रभाव नही पड़ता है। इस उपचार के द्वारा एक साल के भीतर ही थायराइड की समस्या दूर हो जाती है।

थायराइड के घरेलु उपचार:Thyroid Home Remedies in Hindi

1. अश्वगंधा कैप्सूल: अश्वगंधा को कई सालों से जडी बूटियों के रुप में इस्तेमाल किया जाता आ रहा है। इसमे प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने वाले गुण पाये जाते है। इसलिए आप प्रतिदिन एक अश्वगंधा कैप्सूल का सेवन जरुर करें। जिसके इस्तेमाल से आप तनाव मुक्त भी रहते है, और आपके अंदर एक अलग ही उर्जा का विकास होता है।

2. अलसी: अलसी में प्रचुर मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड पाया जाता है। जो थायराइड हार्मोन के लिए बहुत सहायक होता है। एक गिलास दूध में एक अलसी पाउडर को मिलाकर पिये। रोजाना इस नुस्खे को एक बार जरुर इस्तेमाल करे। एक बात का ख्याल रखे की इसका अधिक मात्रा में सेवन ना करे नही तो यह आपके स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसे रखने के लिए फ्रिज का इस्तेमाल करना चाहिए ।

3. एलोवेरा: एलोवेरा में एंटीबैक्टीरियल गुण पाये जाते है। जो सूजन को कम करने में सहायक होते है। इसे इस्तेमाल करने के लिए एक चम्मच एलोवेरा जूस में दो चम्मच तुलसी के पत्ते को मिलाकर सेवन करें। अगर आप रोजाना इसका सेवन करते है तो पाचन तंत्र और रोग प्रतिरोधक क्षमता भी ठिक रहती है। जो थायराइड को ठिक करने में लाभकारी होती है ।

4. लौकी का जूस: लौकी शरीर के जरुरी पोषक तत्व को पूरा करता है। इसमे विटामिन और आयरन तथा पोटैशियम जैसे जरुरी तत्व मौजूद होते है। यदि आप इसका रोजाना सेवन करते है तो आप थायराइड से छुटकारा पा सकते है। इसे इस्तेमाल करने के लिए लौकी के रस में अदरक के रस को मिलाकर एक मिऋण तैयार कर ले। ऐसा करने के बाद उसे छान ले, और फिर पी जाये। एक बात का ध्यान रखे की इसे सिर्फ खाली पेट ही इस्तेमाल करना है। इसके इस्तेमाल से आप अपना पाचन तंत्र मजबूत और वजन भी कम कर सकते है।

5. अदरक: अदरक बहुत फायदेमंद नुस्खा है जो थायराइड से लड़ने में मदद करता है। क्योंकि इसमे एंटिऑक्सिडेंट प्रचुर मात्रा में पायी जाती है। इसे इस्तेमाल करने के लिए गर्म पानी में अदरक को डाल कर फिर से गर्म करे। उसके बाद इसमे शहद को मिलाकर इसे चाय की तरह धीरे-धीरे पिये। इसे आप रोजाना कम से कम दो बार जरुर पीये।

6. शुद्ध नारियल तेल: नारियल तेल के इस्तेमाल से शरीर का मेटाबॉलिज्म अच्छा करने के साथ-साथ हाइपो थायराइड से भी छुटकारा पाया जा सकता है। शुद्ध नारियल तेल के रोजाना सेवन करने से आप थायराइड के साथ अपने वजन को भी कम कर सकते है। प्रतिदिन कम से कम दो बार नारियल तेल का सेवन जरुर करे।

थायराइड से बचने के उपाय:Thyroid Prevention Tips in Hindi

आयोडिन वाले भोजन का इस्तेमाल जरुर करना चाहिए।

तैलिए पदार्थ का सेवन कम मात्रा में करना चाहिए।

ग्रर्भावस्था के समय थायराइड का चेकाअप करवाये।

चीनी वाले पदार्थ से दूर रहने की कोशिश करे।

कॉफी का सेवन बिल्कुल भी ना करें।

हमेशा अपने वजन को चेक जरुर करवाये।

जितना ज्यादा हो सके तनाव मुक्त रहने की कोशिश करे।

व्यायाम करने की आदत डाल ले।

अधिक मात्रा में पानी का सेवन करे और वह भी साफ पानी का।

पांच साल मे एक बार थायराइड की जांच जरुर करवाये।

इसमे आपको थायराइड के बारे में पुरी जानकारी दी गयी है जिससे अब आप अपना अच्छे से ख्याल रख पायेंगे। यदि आप बताये गये इन तरीको को इस्तेमाल करते है तो आप जरुर थायराइड से छुटकारा पा सकते है। पर एक बात का खास ध्यान रखे, किसी भी घरेलु उपाय को इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरुर ले।

यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो तो इसे सोशल मीडिया जैसे फेसबूक और वाट्सअप पर जरुर शेयर करे। आपको थायराइड के बारे में और भी जानकारी है तो हमें जरुर बताये ताकि हम और लोगो को भी बता सके।

ऐसे ही सेहत से जुड़ी जानकारी पाने के लिए जुड़े रहे Realmehealth.com से।

Share on

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close